दोस्त की प्यासी बीवी को खुश किया

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राज और मैं वापी का रहने वाला ह। मेरी पिछली कहानी पढ़कर आप सबको बहुत मज़ा आया होगा। उम्मीद है आज की कहानी में पढ़कर फिर आपको मज़ा आये। आपको पता है मुझे लड़कियों से ज़्यादा आंटी और भाभी पसंद आती है। आज की कहानी मेरे एक दोस्त और उसकी बीवी से जुडी हुई है। इस कहानी में मैं बताऊंगा की कैसे मैंने अपने दोस्त, रोहित की पत्नी शालिनी को चोदा। आज की कहानी सिर्फ आज से महीने पहले की है। 

मैं अपने दोस्त रोहित के घर गया था। खूब बातें होने लगी यहाँ वह की। मेरी नज़र शालिनी पर काफी सालों से थी, लेकिन उसने कभी भाव नहीं दिया। उस दिन रोहित अपनी शादी की एल्बम दिखा रहा था। मैं शालिनी की कमर और गांड के पीछे पागल था। जब भी इस चीज़ को देखता हु पागल सा ही हो जाता। उस दिन वो भी बैठी थी हमारे साथ, हमेशा की तरह मेरी नज़र फिर शालिनी की गांड पर थी। उफ्फ्फ्फ़ ऐसी उभरी हुई गांड मैंने कभी नहीं देखी। अब मुझे जाना था, क्यूंकि कल ऑफिस था। 

रोहित ने कहाकहा जा रहा है यार तू, जब देखो ऑफिस

मैंने कहामीटिंग है, वैसे ही ऑफिस बंद था, कल नहीं गया तो पन्गा हो जायेगा

रोहित ने कहाचले जाना मैनेजर साहब, खाना तो खा लीजिये

मैं भी मैं गया और फिर तो तरह तरह की चीज़ बनने लग गयी। खाना तो बड़ा मज़ेदार था। हम सबने खाना खाया और खूब बातें भी की। अब अचानक पुलिस वालो ने कर्फ्यू लगा दिया और घर के बहार कोई नहीं जा सकता। 

मैंने कहाअब मैं क्या करू

रोहित और शालिनी ने कहायही रुक जाओ, कल सुबह जल्दी निकल जाना

मैंने कहासही है

रोहित और शालिनी अपने कमरे में गए और मैं नीचे हॉल में फ़ोन में गेम खेल रहा था। उफ्फ्फ्फ़ शालिनी जब नीचे उतारकर आयी, मैं देखता ही रह गया, सच में गोरा बदन, बड़ी बड़ी चूचियां और चलने का अंदाज़। पहली बार मेरी नज़र गांड पर से हटकर और उसकी चूचियों पर गयी। मैं सोच रहा था काश यह चूचियां मिल जाये, सच में गज़ब का मसलूंगा। एक घंटा हो गया और मुझे नींद आने लग गयी। रोहित और शालिनी चले गए अपने कमरे में। 

अब मैं अपने कमरे में यही सोच रहा था की यार यह चूचियां कैसे मिलेंगी। पूरी रात मैं सो नहीं पाया, अब मैं बाथरूम में जा रहा था इतने में रोहित के कमरे से आवाज रही थी। मैंने ज़रा खिड़की से देखा तो अंदर तो चुदाई चल रही थी। रोहित का छोटा सा लंड और यहाँ शालिनी बिलकुल चूड़ासी हो रही थी, कुछ मज़ा नहीं रहा था। शालिनी ऊँगली दाल डालकर अपने आप को खुश कर रही थी। मतलब एक तरह से वो खुश नहीं थी। मैं वापस कमरे में आया मैंने सोचा यह प्यासी भी है, कल मैं घर रुक जाता हु और शालिनी को चोदने का प्लान बनता हु। 

अहले दिन भगवन से मेरी सुनली, कर्फ्यू लगा हुआ था, रोहित तो चला गया क्यूंकि वो तो डॉक्टर है जाना तो पड़ेगा। अब घर में मैं, शालिनी और रोहित की मम्मी। अब तो लग रहा था की शालिनी की ठुकाई हो सकती है। मैं सुबह नास्ता किया और टीवी देखने लग गया। अब साला मेरा लंड मान ही नहीं रहा, जब जब शालिनी को देखे खड़ा हो जाये। बार शालिनी ने भी देख लिया। 

दोपहर के वक़्त शालिनी ने कहाक्यों अपने आप को तकलीफ दे रहे हो, ज़्यादा खड़ा करकर रखोगे, दर्द होने लग जायेगा

मैंने कहातुम बैठा दो फिर, इतनी चिंता कर रही हो

शालिनी ने हस्ते हुए कहामैं बहुत चूड़ासी हु, इतनी जल्दी नहीं मानूंगी, खाना अच्छे से कहा लो, ताक़त आएगी

मैं हस्ते हुए मस्त खाना खा रहा था। शालिनी ने मुझे इशारा दिया था उसके कमरे में आने का, मैं उसके पीछे पीछे गया ,जैसे ही मैं कमरे में घुसा सीधा शालिनी की चूचियों को पीछे से पकड़कर मसलने लगा। शालिनी की चूचियों का साइज ३८ होगा। 

शालिनी ने कहामुझसे रुका नहीं जा रहा, जल्दी कपडे उतारो

हम दोनों ने काफी जल्दी कपडे उतार लिए। मैंने सोचा आराम से करेंगे, लेकिन शालिनी से रुका नहीं जा रहा था। 

शालिनी ने कहाएक शर्त पर चोदने दूंगी, जैसे मैं कहु, वैसे करो

शालिनी ने पहले इशारा किया चुत चाटने का। हमने कहा चलो यही कर लेते। मैंने खूब बढ़िया तरीके से जीभ घुमा घुमा कर चुत चाती। साथ में जो चूचियों भी मसला, शालिनी बिलकुल पागल सी हो गयी। शालिनी मुझे बाहों में भरकर मेरे नंगे बदन को चुम रही थी और मैं तो सिर्फ उसकी चुत में पागल था। 

मैंने सोचा, यार एक बार यह हां कह दे, फिर जो इसकी ठुकाई करूँगा , पूरी ज़िन्दगी नहीं भूल पाएगी। चूत चुसाई के बाद शालिनी बिलकुल मदहोश और गरम हो चुकी थी। अब वक़्त गया था जहा मुझे उसकी ठुकाई करनी थी। बिना शालिनी के कहे, मैंने शालिनी की चुत पर लंड रगड़ना शुरू कर दिया। शालिनी ने कहाघुसा दो, क्यों मुझे और अपने आप को तकलीफ दे रहे हो

मैंने सीधा एक साथ बिना सोचे पुरे लंड घुसा दिया और शालिनी काफी ज़ोर से चिलायी, इतना ज़ोर से की पुरे घर को सुनाई दे जाये। मैं फिर नहीं रुका, मैं उसके बदन को बाहों में भरा और काफी ज़ोर ज़ोर से लंड को अंदर बहार करने लग गया। मैं समज गया था की बहुत ज़ोर से ठुकाई करनी है मुझे। मैंने अपना पूरा ज़ोर लगा दिया लेकिन रुका नहीं। २० मिनट की जमकर ठुकाई के बाद, शालिनी ने कहाअब सहन नहीं हो रहा, दर्द हो रहा, दूर हटो

मैंने अपने लंड को दूर किया वैसे ही वो झड़ने वाला था, मैं अपना सारा पानी चुत के ऊपर गिरा दिया। शालिनी को कोई होश नहीं था, मैं उसके शरीर को थोड़ा मसला, तो वो होश में आयी। उसके बाद से जब भी मौका मिलता शालिनी को खुश करता, अब तो वो पैसे भी देने लगी है। दोस्तों कैसी लगी यह कहानी जिसमे शालिनी की जमकर ठुकाई हुई, अच्छी लगी तो मुझे ज़रूर बताना।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

बस में चाची की चुदाई!

दोस्तों आप लोगो ने वो कहावत तो सुनी होगी , कभी कभी कुआँ खुद प्यासे के पास आ जाता है।  पर कभी ये नहीं सुना होगा कि प्यासे की प्यास एक दूसरे प्यासे ने बुझाई।  जब किस्मत अच्छी हो न तो कुछ भी हो सकता है ।   मेरा नाम रमन है।  मैं हिमाचल प्रदेश का […]

परी के साथ जबरदस्त चुदाई !

कहानी का शीर्षक पढ़ के आप लोगों को पता लग गया होगा ये कहानी सब से अलग है । आप सभी लोगों ने बचपन में परियो की कहानियां सुनी होंगी। जैसा कि हम सब जानते हैं परियां बहुत सुंदर और अच्छी होती हैं । जिसे मिल जाएं उनकी लाइफ बन जाती है । मुझे भी […]

गर्लफ्रैंड को पैसे लेकर चोदा!

आप सब ने कभी न कभी गर्लफ्रैंड बनाई होगी।  ज्यादातर ऐसा देखा जाता है कि लड़के अपनी गर्लफ्रैंड को पैसे खिलाते हैं।  पर फिर भी कुछ ही लोग अपनी गर्लफ्रैंड की चूत के दर्शन कर पाते हैं।  काफी लोग तो बस पैसे  खिलाते रह जाते हैं और चोद कोई और ही जाता है।  पर मेरे […]

पड़ोस में आयी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाकर प्यास भुजायी

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राजेश है और मेरे सभी दोस्तों को दिल से नमस्ते। दोस्तों मैं मुंबई रहने वाला हु और मैं एक कॉल सेण्टर में काम करता हु। आज मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली अन्तर्वासना की कहानी लिखने जा रहा हु। यह कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड, रानी की है। यह बात आज से […]

Disclaimer - यह कहानी आपके सेक्स आनंद को बढ़ावा देने के प्रयास से लिखी गयी है, इसलिये इसे केवल एक मनोरंजन की ही तरह उपयोग में लेवे|यह कहानी आपकी आत्मा और मानसिकता पर बुरा प्रभाव डाल सकती है साथ ही आपके वैवाहिक जीवन में बुरा प्रभाव डाल सकती है|कहानी को पढ़ते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें की यह एक काल्पनिक कहानी है सच्चाई से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है| Hindi Sex Story| Bangla Choti Golpo | Antarvasna