मेरी प्यासी मौसी की चुत चुदाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम, अंकुर है और मैं भोपाल का रहने वाला हु। मैंने भोपाल के कॉलेज में एडमिशन लिया। मेरी बड़ी बहन की शादी हो चुकी है। मैं और मेरे मम्मी पापा साथ में रहते है। वैसे मैं दिखने में अच्छा तोह नहीं लेकिन फिर भी कुछ लड़कियां भाव ज़रूर देती है। अब मैं आपको एक मस्त कहानी सुनाता हु। 

यह कहानी आज से साल पहली है। मैंने गर्मी में नानी के घर पर गया था। पहुँचने में साथ घंटे लग जाते है। हम रात को वह पहुंचे और खाना खाकर तुरंत सो गए। अगले दिन हम सब उठे और इतने में ही मौसी भी गयी। मौसी भी गयी थी मेरी मम्मी और नानी से मिलने। मेरी मौसी के उम्र ३९ है और दिखने में वो काफी सुन्दर है। उनके पति फ़ौज में है और मौसी टीचर है। अब हम सबने उस दिन खूब बातें की और मस्त खाना बनाया। रात को टीवी देखते देखते हम बातें कर रहे थे। थोड़ी देर बाद मैं सोने चले गया।  कूलर चल रहा था तो मुझे नींद गयी। 

मेरी मम्मी और मौसी भी साथ में मेरे कमरे में सो गयी। अब अचानक रात के बजे मेरी आँख खुली और मेरी मौसी और मम्मी दोनों गहरी नींद में थी। मैंने देखा की कम्बल में से मेरी मौसी की एक टांग बहार थी। उनकी टांगें एकदम गोरी और चिकनी है। मेरी नज़र बार बार उनकी टांगों की तरफ जा रही थी। थोड़ी देर बाद मैंने फिर मौसी की टांगों के तरफ देखा। मैंने सोचा रात का मौका मस्त है क्यों मौसी की जिस्म को छूने की कोशिश करते है। मैं उठकर मौसी के बगल में लेट गया। मौसी की टांगों को एकदम पास से देख रहा था। मैंने गहरी नींद का बहाना किया और मौसी की नंगी टांगों पर हाथ रख दिया। मुझे डर भी था लेकिन क्या करू मजबूर भी हु। मौसी की टांगें बहुत मुलायम थी और मैं अपना हाथ सहलाना शुरू कर दिया। मेरी मंज़िल मौसी की चुत थी। क्या करे टांगें इतनी अच्छी है तो चुत क्या कमल की है।

मौसी की कोई हरकत नहीं इसका मतलब वो गहरी नींद में थी। मेरा हौसला बढ़ता गया और अब मैं मौसी की चुत के बिलकुल पास था। मेरा हाथ मौसी की पैंटी पर था। मेरे बदन में बिलकुल अलग सी गर्मी थी। मैं तो ऐसा कर रहा था की मौसी की चुत को अपने हाटों से सेहलाओ और मजे लू। लेकिन मौसी ने करवट ली, मैंने एकदम से हाथ अपनी तरफ खींच लिया। वो एकदम सीढ़ी हो गयी। मेरी जान में थोड़ी जान आयी।

करीब १० मिनट के बाद मुझे लगने लग गया था की मौसी बिलकुल गहरी नींद में है। मैंने फिरसे मौसी की चुत पर हाथ रखना शुरू कर दिया। इस बार तो बिलकुल मेरा हाथ मौसी की चुत पर था। सच कहु इस तरह चुत को छेड़ने का मजा ही अलग ह। 

अब मैंने मौसी की चुत में हलकी सी उँगलियाँ डाली, मेरे बदन में हवस उठ चुकी थी। अब मैं अपने आप को नहीं रोक सकता। लेकिन इस वक़्त जब मेरा हाथ उनकी चुत पर था, तो वो थोड़ी हिलने लग गयी। उन्हें भी मेरे तरह कुछ अच्छा एहसास हो रहा था। लेकिन मैंने भी सोच लिया जो होगा देखा जायेगा लेकिन मैं अब रुक नहीं सकता। मैंने अपनी ऊँगली पूरी अंदर घुसा दी और वो एकदम से हिल गया। मैं इस वक़्त तक हवस का पुजारी बन चूका था। 

मौसी की आँखें एकदम से खुल गयी और उन्होंने अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया। एक बार तो मुझे विश्वास नहीं हो रहा था लेकिन मेरे लिए यह बहुत बड़ा ख़ुशी का पल था। मौसी ऊपर से ही मेरे लंड को सेहला रही थी। वो अपने हाटों से मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से दबा रही थी। अब यह पक्का था की मौसी मेरे लंड से छोड़ने वाली है। लेकिन मौसी के बगल में मेरी माँ भी सो रही थी तोह मुझे डर भी लग रहा था। मौसी ने भी मेरे अंडरवियर के अंदर हाथ दाल दिया। जैसे ही मेरे ऊँगली उनकी चुत में लगी हुई थी उनकी चुत भी बिलकुल गीली थी। अचानक मौसी की चुत से काफी पानी निकलने लग गया था। मेरा हाथ पूरा भीग चूका था। इस बात से मेरे लंड से भी काफी पानी निकल गया और मौसी का हाथ भी गीला हो गया। मौसी मेरे अंडरवियर से अपना हाथ साफ़ कर रही थी। अब अचानक कूलर बंद हो गया और हम दोनों डर गए। मेरी माँ भी हिलने लग गयी। हम भी ऐसे एक्टिंग कर रहे थे की अभी उठे।  

मेरी माँ ने कहाउफ़ लाइट चली गयी, चलो छत पर चलते है

मैंने और मौसी ने कहाआप जाओ,, लाइट थोड़ी देर में जाएगी

मेरी माँ ने कहातुम दोनों यही रहो मैं जा रही हो‘   

सुनते ही हम दोनों खुश हो गए। माँ के जाने के थोड़े देर बाद हमने दरवाज़ा बंद कर दिया। अब तो हम दोनों एक दूसरे के ऊपर टूट पड़े। पहली बार मौसी और मेरे होठ साथ में मिले। वो पल बहुत ही मज़ेदार है। किश करते वक़्त हम दोनों ने एक दूसरे के कपडे साथ में उतार दिया। अब हम दोनों बिलकुल नंगे थे। मौसी मेरे लंड को ऊपर से ही लंड को सहलाने लग गयी। मैं मौसी की गांड को ज़ोर से दबा रहा था और उनकी चूचियों को चूसने लग गया। मैं उनके बदन को चुम रहा था, कभी कंधे पर और कभी उनकी कमर पर। मैं मौसी की चूचियों को काटने लगा तो उन्होंने मेरे लंड को ज़ोर से मसल दिया। मैं मौसी की चुत में वापस ऊँगली डालने लगा और साथ में चूचियों को दबाना शुरू कर दिया।  मौसी की चुत बिलकुल साफ़ थी और एकदम गीली हो रखी थी। अब बस मुझे उनकी चुत चाटनी थी अपनी जीब से। वाह क्या खुसबू थी और गज़ब का स्वाद। मौसी बिलकुल पागल हो गयी और मेरे मुँह को अपनी चुत के अंदर बिलकुल घुसा दिया। काफी देर मैं उनकी चुत को छटा और अब वक़्त गया था मेरे लंड चुसाई का। मौसी कम्बल के अंदर ही मेरे लंड को चूसने लगी वो भी एकदम मजे में। 

मौसी ने मुझे बिलकुल पागल कर दिया। मुझसे नहीं रुका जा रहा था , मैंने मौसी को अपनी बाहों में उठाया और उनके ऊपर लेट गया, अब वक़्त ही चूका था असली चुदाई का। मौसी से भी नहीं रुका जा रहा था और वो अपनी चूचियों को हाटों से भींचने लगी। मैंने मौसी की चुत में हल्का सा धक्का दिया और मौसी तो ज़ोर से छिलने लगी। 

मौसी ने मुझे कहाप्लीज आराम से करना, मैं ज़्यादा दर्द सहन नहीं कर सकती

मैंने मौसी की चुत में अपना लंड बिलकुल घुसा दिया बिना कुछ सोचे समजे। अब तोह गज़ब की चुदाई हो रही थी।  एक तरफ मैं उनके होटों को काट रहा था , साथ में चूचियों को दबा रहा था , और होने लंड को ज़ोर ज़ोर से अंदर बहार कर रहा था। मौसी ने भी मुझे नोच डाला जिससे पता चल रहा था की उन्हें बहुत दर्द हो रहा था। यह चुदाई लग भाग आधे घंटे तक चली और अब तो मौसी का बदन पूरा अकड़ चूका था।  मैं बिलकुल थक चूका था और साथ में मौसी भी, हम बिलकुल पसीने में थे। मैं मौसी के बगल में लेट गया और वो मेरे बालों को सहलाने लगी और मेरे बदन और पैरों को भी दबा रही थी जिससे मुझे थोड़ा सुकून मिला। दोस्तों यह थी मेरी चुदाई की कहानी। 

अगले दिन मौसी को जाना पड़ा लेकिन हम दोनों फ़ोन पर बहुत बातें करते है कभी कभी मैं उनके घर भी जाता हु और उनकी चुत को सुकून भी देता हु। 

तो दोस्तों कैसी लगी मेरी यह चुदाई की कहानी, आप भी मजे करिये 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Releated

दोस्त की प्यासी बीवी को खुश किया

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राज और मैं वापी का रहने वाला ह। मेरी पिछली कहानी पढ़कर आप सबको बहुत मज़ा आया होगा। उम्मीद है आज की कहानी में पढ़कर फिर आपको मज़ा आये। आपको पता है मुझे लड़कियों से ज़्यादा आंटी और भाभी पसंद आती है। आज की कहानी मेरे एक दोस्त और उसकी बीवी […]

मेट्रो में मिली चुडासी भाभी की प्यासी मिटाई

दोस्तों बारिश का मौसम बहुत अच्छे से आ चूका है और असली चुदाई का मज़ा तो यही मौसम में है। मैं आज आपको एक सच्ची घटना के बारे में बताता हु जो पिछले बारिश के मौसम की है। मेरा नाम आनंद है और मैं मुंबई रहने वाला हु। मेरी उम्र २३ साल है और मैं […]

बहन को रंडी बनाकर चोदा

हेलो दोस्तों, मेरे नाम अर्जुन है और मैं पुणे का रहने वाला हु। मैं आज आपको अपनी जीवन के एक बहुत ही अच्छी कहानी के बारे में बताता हु। यह एक रियल स्टोरी है और मैं जब भी इस बारे में सोचता, बहुत ही खुश हो जाता हु। मेरे बहन का नाम राधा है, जो […]

दोस्त की मम्मी ने मेरी प्यासी मिटाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम संदीप है और मैं दिल्ली का रहने वाला हु। मेरी उम्र २८ साल है मेरी शादी हो चुकी है। लेकिन कुछ महीने पहले किसी निजी कारण के वजह से तलाक भी हो गया। अब मैं दिल्ली में अपने घर में रहता हु और साथ में जॉब भी करता हु। आज की […]

Disclaimer - यह कहानी आपके सेक्स आनंद को बढ़ावा देने के प्रयास से लिखी गयी है, इसलिये इसे केवल एक मनोरंजन की ही तरह उपयोग में लेवे|यह कहानी आपकी आत्मा और मानसिकता पर बुरा प्रभाव डाल सकती है साथ ही आपके वैवाहिक जीवन में बुरा प्रभाव डाल सकती है|कहानी को पढ़ते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें की यह एक काल्पनिक कहानी है सच्चाई से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है| Hindi Sex Story| Bangla Choti Golpo | Antarvasna