गर्लफ्रैंड को पैसे लेकर चोदा!

आप सब ने कभी न कभी गर्लफ्रैंड बनाई होगी।  ज्यादातर ऐसा देखा जाता है कि लड़के अपनी गर्लफ्रैंड को पैसे खिलाते हैं।  पर फिर भी कुछ ही लोग अपनी गर्लफ्रैंड की चूत के दर्शन कर पाते हैं।  काफी लोग तो बस पैसे  खिलाते रह जाते हैं और चोद कोई और ही जाता है।  पर मेरे साथ ऐसा कभी नहीं हुआ।  में अपनी हर गर्लफ्रैंड को पहले ही बोल देता हूँ कि मैं बहुत गरीब हूँ।  ऐसा है नहीं पर क्या करें , अपना तो मानना  है कि अगर पैसे देकर ही चोदना है तो रंडी के पास चले जाओ।  

मेरा नाम रिषी है , मैं जालन्धर का रहने वाला हूँ।  मेरी उम्र २६ साल है।  ये कहानी ३ साल पहले की है।  मेरे पिता जी की तबियत ज्यादातर खराब रहती थी।  हमारी एक छोटी सी  साइकिल पार्ट्स की फैक्ट्री है।  पिता जी की तबियत खराब रहने की वजह से उन दिनों फैक्ट्री मैं ही संभालता था।  हमारे पुरे एरिया में मेरी छवि एक बहुत ही अच्छे और होनहार लड़के की है।  अच्छा और होनहार तो मैं हूँ बस मेरी एक आदत गलत है जो किसी को नहीं पता।  मुझे सेक्स करने की लत्त है।  मैं हर दूसरे तीसरे दिन अपनी किसी ना किसी गर्लफ्रैंड को होटल में ले जाकर चोदता हूँ।  इस बात से हर कोई अनजान है।  मेरी इस आदत की वजह से मैं पैसे बचा नहीं पता था और घर पर बोल देता था कि फैक्ट्री में नुक्सान हो रहा है।  मैंने कभी अपनी किसी गर्लफ्रैंड को पैसे नहीं दिए पर होटल का खर्चा मैं ही करता था।  इस वजह से लगभग महीने के ४०-५० हजार मैं चूत में घुसा देता था।  

मैं अब अपनी इस आदत से बहुत परेशान होने लगा था।  पर बहुत कोशिश के बाद भी मैं खुद को सुधार नहीं पा रहा था।  लोगों को लगता था मैं मेहनत बहुत करता हूँ पर किस्मत साथ नहीं दे रही।  पर असलियत से हर कोई अनजान था।  मेरी फैक्ट्री की जगह किराये पर थी।  पैसे न बचा पाने की वजह से मैंने उस महीने का किराया नहीं दिया था।  लगभग अगला महीना शुरू होने वाला था , पर मैं अभी तक पैसों का इंतजाम नहीं कर पाया था।  फिर आया मेरी जिंदगी का अभी तक का सब से अच्छा दिन।  सुबह सुबह मुझे मकान मालिक का फ़ोन आया और उसने बोला फैक्ट्री जाने से पहले मुझे मिल कर जाना। आकाश नाम था मेरे मकान मालिक का और बहुत ही ज्यादा अमीर है वो।  पुरे जालन्धर में करोड़ो की प्रॉपर्टी है उसकी।   मुझे लगा उसे कोई काम होगा क्युकि किराया पहले भी लेट हुआ है पर उसने कभी मुझे कुछ नहीं बोला।  मैं चला गया उसके घर , पर आज उसने सुबह सुबह मेरी बहुत बेइज़्ज़ती की।  उसने मुझे बोला किराया नहीं दे सकता तो फैक्ट्री बंद कर दे और कोई नौकरी कर ले।  उसने मुझे २ दिन का टाइम दिया , अगर किराया नहीं दिया तो फैक्ट्री में ताला लगा देगा।  

उस दिन मुझे अपनी आदत पर बहुत गुस्सा आ रहा था।  मुझसे आज तक किसी ने ऐसे बात नहीं की थी।  पर मुझे अब २ दिन में ४० हजार रूपये का इंतजाम करना था।  मैं तुरंत फैक्ट्री आया और सोचने लगा कहा से लाऊँ इतने पैसे।  कहीं से कोई पेमेंट आनी भी नहीं थी अभी १० दिन तक।  मैंने अब फैक्ट्री में से कुछ बेचने का सोचा।  कबाड़ बहुत था फैक्ट्री में, करीब २ टन लोहा था कबाड़।  मैं हमेशा दिवाली पर इकठे बेचता था कबाड़ ताकि दिवाली के सारे खर्चे निकाल सकूँ।  सारे मजदूरों को दिवाली पर गिफ्ट देना पड़ता था और भी बहुत खर्चे होते है दिवाली के समय।  पर अभी तो मार्च का महीना था मैंने सोचा तब तक और कबाड़ इकठा हो जायेगा।  तो फिर मैंने सोचा उसे बेच कर जो पैसे आएंगे उस से किराया दे दूंगा।  मैंने कबाड़िये को फ़ोन भी कर दिया।  अब मैं चिंता मुक्त था।  

पर मुझे नहीं पता था कि आज मेरे साथ क्या होने वाला है।  मुझे कबाड़ बेचने की जरुरत नहीं पड़ेगी और पैसे भी आ जायेंगे।  करीब २ बजे थे और मुझे किसी अनजान लड़की का फ़ोन आया।  उसने मुझे बोला ४ बजे मेरी कॉलेज से छुट्टी होगी मुझे रामगढ़िया कॉलेज के बाहर आकर मिलो।  वो मुझे जानती थी पर मैं उसे पहचान नहीं पाया।  इसलिए मैं जाने से डर गया और नहीं गया।  ४ बजे फिर से फ़ोन आया और वो लड़की बोली रिषी तू आया नहीं , मैं तेरा इन्तजार कर रही हूँ।  मैंने उसे बोला मैं आपको जानता नहीं , मैं ऐसे कैसे किसी लड़की से मिलने आ जाऊं।  वो बोली रिषी डर नहीं तू मुझे जानता  है यहाँ आएगा तो पता लग जायेगा।  अब तू बता तू कॉलेज आएगा कि मैं फैक्ट्री आऊं।  मुझे अब और डर लगने लगा पर हिम्मत कर के मैं चला गया उसके कॉलेज।  कॉलेज के बाहर जा कर मैंने उसे फ़ोन किया तो उसने मुझे पास वाले इंटरनेट कैफ़े में बुलाया।  

वहाँ जाकर देखा तो वो लड़की आकाश की बहन थी।  नीतू नाम है उसका।  मुझे समझ में नहीं आ रहा था उसने मुझे क्यों बुलाया।  ३ साल से जानते है हम पर आज तक हमने एक दूसरे को बुलाया भी नहीं।  मैं इसलिए नहीं बुलाता था कि आकाश की बहन है और अगर इस से बात की तो शायद आकाश को बुरा लगे।  उस से मिलते ही मैंने पूछा , क्या हुआ नीतू मुझे ऐसे यहाँ पर क्यों बुलाया।  कोई कॉलेज में तंग कर रहा क्या ? वो बोली नहीं ऐसी कोई बात नहीं है।  उसने अपने पर्स से कुछ पैसे निकाले और मुझे दे कर बोली ये ले ५० हजार रूपये और जाकर मेरे भाई के मुँह पर मारना।  कोई तुझे कुछ बोले मुझ से बर्दाश नहीं होता , फिर चाहे वो मेरा भाई ही क्यों ना हो।  मुझे समझ आ गया कि वो मुझे पसंद करती है।  लड़की तो वो भी बहुत कमाल थी , सोचा तो मैंने भी बहुत बार था इसे पटाने के लिए पर कभी हिम्मत नहीं हुयी।  पर मुझे नहीं पता था ये  भी मुझे पसंद करती है।  मेरा दिमाग बहुत तेज है , और उसका फायदा उठाने का समय आ गया था।  मेरे शैतानी दिमाग में तुरंत एक तरकीब आयी और मैंने उसे बोला कि नीतू अगर तुझे बुरा न लगे तो एक बात बोलूं।  

उसने बोला मुझे तेरी सब बातें अच्छी लगती हैं , इसी लिए पिछले २ साल से दिल ही दिल में तुझसे प्यार करती हूँ।  तेरी छवि पुरे एरिया में बहुत अच्छी है इसलिए बोलने से डरती थी कि शायद कही तू मना ना कर दे।   फिर मैंने उसे बोला कि देख नीतू ये पैसे तू रख ले , पर एक बात मैं तुझे बताना चाहता हू।  मैं भी तुझे काफी पसंद करता हूँ पर कभी बोला नहीं आकाश के डर से।  वो ये सुन के मेरे गले लग गयी और बोली आई लव यू रिषी।  उसने मुझे बोला कि ये पैसे तू ही रख और मेरे भैया को किराया दे देना।  चाहता तो मैं भी वही था इसलिए मैंने पैसे रख लिए ये बोल कर कि जल्दी वापिस कर दूंगा।  वो बोली वापिस करने की जरुरत नहीं बस मुझे कभी छोड़ कर नहीं जाना बहुत प्यार करती हु तुझसे।  फिर हम दोनों मेरी बाइक पर वहां से निकल गए और मैंने उसे उसके घर के पास छोड़ दिया।  उसी दिन से अब हम फ़ोन पर बातें करने लगे।  

१ ही महीने में हम दोनों बहुत करीब आ गए।  और लगभग हर रोज कही न कही मिलने लगे।  १ ही महीने में मैं उस से लगभग १ लाख रूपये ले चूका था अलग अलग बहाना कर के , और हर बार बोलता था फैक्ट्री में नुक्सान हो रहा।  जैसे ही सब ठीक होगा मैं वापिस कर दूंगा।  उसका हर बार यही जवाब होता था कि वापिस करने का ना बोला कर जो मेरा है वो तेरा है।  १ महीने से ऊपर हो गया अब मुझे उसे चोदने का जूनून चढ़ने लगा।  वो थी ही इतनी लाजवाब कि हर किसी को उसे देख कर चोदने का मन करेगा।  दूध सी गोरी , करीब ३६ साइज की चूचिया और ३६ की ही गांड।  मतलब चाहे प्यार से देखो या हवस से हर तरीके से कमाल थी वो लड़की।  आज तक बहुत बार उसे किस कर चूका था पर हर बार घर आकर मुठ मारनी पड़ती थी।  क्योंकि हिम्मत नहीं होती थी कुछ आगे करने की।  पर एक दिन मैंने उसे हिम्मत कर के बोल ही दिया।  मैंने बोला नीतू अगर तू बुरा ना माने तो एक बात बोलूं।  उसने भी हामी भरी , तो मैंने उसे बोला कि मैं तेरे साथ एक पूरा दिन बिताना चाहता हूँ।  जिसमे और कोई न हो सिर्फ तू हो और मैं।  पढ़ी लिखी लड़की थी , कॉलेज जाती थी तो समझ गयी मैं क्या कहना चाहता हूँ।  उसने बोला कि एक काम कर , किसी दिन हिमाचल चलने का प्लान बना , सिर्फ दिन ही क्यों १ पूरा दिन और १ पूरी रात रहेंगे साथ मैं और अगले दिन वापिस आएंगे।  

मैंने उसे बोला कि मेरे पास इतने पैसे नहीं है , तो उसने बोला कि पैसे सारे मैं दूंगी जितने भी लगेंगे।  एक काम और कर दे मेरा , मुझे सेक्सी वीडियो देखनी है वो बता इंटरनेट पर कहा से देख सकती हूँ।  मैंने उसे पूछा क्या करेगी सेक्सी वीडियो देख कर , जब थोड़े ही दिन में खुद ही करेंगे तो देख लेना।  उसने बोला मुझे काम है कुछ बता।  मैंने उसे २-३ वेबसाइट बता दी।   

 उस रात के बाद से हम दोनों बस वह जाने के बारे में सोचने लगे।  आने वाले शनिवार का प्लान बना हमारा।  ३ दिन थे अभी और इस बिच में हमने बहुत सारी सेक्सी बातें करी।  ३ दिन तक रोज रात में वो मुझे खुद ही बोलती बता कैसे चोदेगा  मुझे पहली बार , और मैं भी पूरी तरह से बेशरम हो के बताता उसे।  वो बातें सुन के तड़पती और अपनी ऊँगली से ही खुद को चोदती।  मैं भी फ़ोन पर उसकी आहें सुन कर मुठ मारता।  मैंने उसे बोला कि पहली बार में बहुत दर्द होगा तुझे तो वो बोली कोई बात नहीं तेरे लिए तो जान दे सकती हूँ।  आख़िरकार शनिवार आ गया और वो अपने घर पर बहाना बना के कि दोस्तों के साथ जा रही हूँ ,  रोड तक आ गयी और वह से हमने मेरी कार में जाना था।  रस्ते में उसने मुझे बताया कि ये उसका पहली बार है , आज से पहले उसने सेक्स नहीं किया है।  इसी लिए सेक्सी वीडियो देख रही थी ताकि  सीख सकूँ और तुझे पुरे मजे दे पाऊँ।  पर मुझे थोड़ी सी शराब पीला देना ताकि नशे में मुझे ज्यादा दर्द का पता न चले।  

मैंने रस्ते से २ बीयर की बोतल ले ली और हम रात में होटल पहुंच गए।  रूम में जाते ही मैंने उसे बोला पहले खाना खा लेते है , वो बोली नहीं पहले बियर पीतें है और एक बार सेक्स करते है।  ताकि जो दर्द होना है पहले हो जाये फिर सारी रात में तुझे मजे दे पाऊं।  मैंने भी एक बीयर की बोतल खोली और उसे पीला दी।  एक मैंने पी ली।  उसे बीयर का नशा होने लगा और वो बोली रिषी इस बार तू कर सब कुछ और धीरे धीरे करना।  मैंने उसे बेड  पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गया।  मैं उसे किस करने लगा होठो पर और धीरे धीरे उसकी चूचियां दबाने लगा।  उसने अपने आप अपने सारे कपडे उतार दिया और लेट गयी।  मैंने थोड़ी देर उसकी चूत चाटी ताकि वो थोड़ी गरम हो जाये।  फिर मैंने धीरे धीरे उसकी चूत मैं लैंड घुसा दिया।  सील टूटी तो दर्द से चीला उठी वो , और बोली रिषी धीरे से।  मैं भी धीरे धीरे अब अंदर बाहर करने लगा।  ९-१० झटको तक उसे थोड़ा थोड़ा दर्द का एहसास कम होने लगा।  उसने बताया मुझे कि अब दर्द काम हो रहा।  चूत से खून आ गया था , तो मैंने २-३ झटके और मारे फिर उसे बोला अब बाकि चुदाई अगली बार , अब लण्ड मुँह में डाल ये भी सीख ले।  वो बोली हाँ ये भी सीखा दे।  पहले तो वो थोड़ा सा झिझक रही थी चूसते हुए पर धीरे धीरे वो भी चूसने के मजे लेती रही।  मैंने भी लण्ड चुसवाते चुसवाते सारा रास उसके मुँह में ही छोड़ दिया।  उसने सेक्सी वीडियो में देखा था तो वैसे ही वो मेरे लण्ड का रस पिने लगी।  

अब मैंने कपडे पहन लिए और खाना आर्डर किया।  वो वैसे ही नंगी पड़ी रही।  मैंने उसे बोला कि कपडे पहन ले पर वो बोली नहीं मैं आज की रात अपनी जान के साथ नंगी रहूंगी और अपनी जान को भी नंगा रखूंगी।  खाना खा के तू भी नंगा हो जल्दी।  खाना आया और हम खाना खाने लगे।  खाना खाने के बाद वो बोली अब चल रिषी तू नंगा हो कर बेड पर लेट जा और अपना लण्ड हिला हिला कर खड़ा कर , मैं आती हूँ १० मिंट में।  अपना पर्स उठा कर बाथरूम में चली गयी।  मैं भी नंगा हो कर अब उसे चोदने का मजा लेने के लिए इन्तजार कर रहा था।  १० मिनट बाद वो बाथरूम से बाहर आई और उसे देख कर मेरा लण्ड और जोश में आ गया।  वो साली लाल रंग की ब्रा और पेंटी पहन कर ऊपर से लाल रंग का पारदर्शी नाईट सूट पहन कर आई और स्टाइल में दीवार के साथ खड़ी  हो कर पूछने लगी।  कैसी  लग रही हूँ ? मैंने बोला बवाल लग रही है , आजा अब मेरी रंडी बन और अब मुझे तुझे चोदने दे।  वो बोली इतनी भी क्या जल्दी है चोदने की , अभी तो तड़पना है और तड़पना है।  साले कुत्ते पहली बार में मेरी जान निकाल दी तूने अब मैं बदला लुंगी।  मैंने बोला इतना हसीन बदला तू रोज ले मेरी जान।  

वो धीरे धीरे  बेड पर आई और आकर मेरा लण्ड हाथ में लेकर बोली साले ये तो सेक्सी वीडियो से भी बड़ा है , तभी तो मेरी जान निकल गयी थी।  वो मेरा लण्ड हिलाने  लगी और थोड़ी देर हिलाने  के बाद मुँह में डाल ली।  इस बार वो पूरी रंडी बन चुकी थी।  थूक लगा लगा कर मेरा लण्ड चूस रही थी।  दूसरी ही बार में वो पुरे गले तक ले गयी मेरा लण्ड।  सिर्फ लण्ड ही नहीं मेरी जाँघे मेरे पैर मेरा पेट मेरी छाती सब कुछ चाट चाट कर अपने थूक से गीला कर दिया।  और अभी भी लण्ड चूसी ही जा रही थी।  मैंने उसे बोला अब आजा ऊपर अब नहीं रहा जाता वो बोली साले बदला ले रही हूँ और तड़प अभी।  मैं भी उसका सिर पकड़ कर जोर से जोर से उसका मुँह ऊपर निचे करने लगा और तस्सली से लण्ड चुसवाया।  अब वो खड़ी हो गयी और खुद को नंगा करने लगी धीरे धीरे।  मैं भी उठा और उसे किस करने की कोशिश की।  वो बोली नहीं साले किस नहीं अभी तड़प तू।  इतना बोल कर उसने मुझे दीवार के सहारे बैठा दिया और खुद खड़ी होकर मेरे मुँह पर अपनी चूत टिका दी।  मुझे बोली कुत्ते जीभ निकाल और अब चाट मेरी चूत।  खुद भी वो कमर ऊपर निचे करके चूत चटवाने लगी।  मैंने भी पूरी जीभ उसकी चूत में अंदर ले जाकर उसे मजे दिए।  चूत चटवा कर वो गरम हो रही थी और आअह्ह्ह्ह आआअह्ह्ह्हह आआअह्ह्ह्हह ऊऊओह्ह्ह्हह ओह्ह्ह्हह्ह करने लगी।  थोड़ी देर में मेरी गोद में बैठ कर अपनी पहाड़ जैसी चूचिया मेरे मुँह में दे दी और बोली साले माँ का दूध तो बहुत पिया अब नीतू का पी।  मैं भी एक चूची मुँह में डाल कर चूसने लगा और एक हाथ से दबा कर उसे तड़पाने लगा।  उसकी आहें बढ़ने लगी और बोली साले मैं तुझे तड़पा रही थी तूने मुझे ही तड़पा दिया।  

अब चोद मुझे साले।  मैंने बोला ऐसे नहीं अब मैं तुझे रंडी बना कर छोडूंगा , गालिया दे दे कर चोदूँगा।  वो बोली इस नीतू माधरचोद को चोद साले बहनचोद।  मैंने बोला नहीं कुतिया रंडी मैं नहीं चोदूँगा। पहले मेरा लण्ड चूस फिर से।  वो बोली क्यों तड़पा रहा है कुत्ते , मैं भी देखती हूँ कैसे नहीं चोदेगा।  इतना बोल के खुद ही साली मेरा लण्ड पकड़ कर चुत में डाल ली और इस बार फिर चिलायी आआआअह्हह्ह्ह्हह।  मेरी गोद में ही बैठी थी इसलिए पूरा लण्ड उसकी चूत में चला गया।  वो बोली अब मजा आया जब पूरा अंदर गया और इतना बोल कर मेरी गोद में ही लण्ड अपनी चूत में डाल कर उछलने लगी।  मेरे बाल नोचने लगी और गालिया देती रही चीखती रही।  चोद साले बहनचोद चोद और जोर से चोद।  मैंने भी बोला रंडी साली ऊपर तो तू है जोर से उछलती रह।  १० मिनट तक मेरी गोद में ही चुदवाने के बाद बोली साले अब तू आ ऊपर।  मैं भी उसके ऊपर चढ़ कर उसकी टाँगे उठा कर इस बार जोर से झटका दिया उसकी चूत में और इस बार और ज्यादा जोर से चिल्लाई।  साली सच में चुदकड़ बन चुकी थी।  साली ने बोला अब इस से स्पीड कम हुयी तो में तेरी गांड मार लुंगी आज।  

उसने भी अपनी टाँगे मेरी कमर  से लपेट ली और मेरी गांड पर अपने हाथ रख कर मेरे लण्ड का मजा लेने लगी।  मैं भी पूरी स्पीड में उसे चोदने लगा।  थोड़ी देर ऐसे चोदने के बाद मैंने उसे बोला चल माधरचोद रंडी अब कुतिया बन।  वो तुरंत उठ कर बन गयी कुतिया और बोली ले साल अब तू कुत्ता बन कर चोद अपनी इस कुतिया को।  मैंने भी बाल खींचे उसके और लग गया चोदने।  उसकी गोल गोल गांड देख कर मेरा जोश और बढ़ रहा और मैंने स्पीड और बढ़ा ली।  वो अब चिल्ला चिल्ला कर बोली जा रही आआह्ह्ह्हह रिषी ऊऊओह्ह्ह्हह और तेज रिषी और तेज ऊऊओह्ह्ह्हह आआआह्ह्ह्हह्ह्ह्ह।  आधा घंटा चोदने के बाद उसका पानी निकल गया और बोली अब बहुत शांत हो गयी मेरी चूत।  मैंने बोला तेरी चूत हार गयी मेरे लण्ड से और पानी छोड़ दी।  पर मेरे लण्ड ने नहीं छोड़ा अभी तो अब चूस चूस कर निकाल।  में बेड पर खड़ा हो गया और उसे घुटने के बल बिठा कर उसके मुँह में लण्ड डाल दिया।  बाल पकड़ कर खूब चुसवाया अपना लण्ड और पूरा रस फिर उसके मुँह के अंदर ही गिरा दिया।  इस बार तो साली अपने मुँह का रास पीने के बाद मेरे लण्ड को भी चाट गयी पूरा।  और हिला हिला कर बोलने लगी और निकाल न बहुत टेस्टी लग रहा है।  मैंने बोला साली अब अगली बार पीना इस बार इतना ही।

अब हम दोनों शांत हो गए थे और ऐसे ही नंगे बेड पर पड़े रहे।  वो मेरे हाथो पर सिर रख कर लेट गयी और बोली मेरी जान खुश है न अब ? मैंने भी बोला है नीतू तूने सच में बहुत मजे दिए।  तुझे मजा आया की नहीं।  वो बोली यार बहुत आया , मैं यहाँ आने से पहले डर रही थी पर अब तो लगता है की रोज चुदवाऊं।  मैंने बोला कोई बात नहीं अपने जालन्धर में भी होटल हैं जब बोलेगी तेरा ये सेवादार आ जायेगा तुझे मजे देने।  हम दोनों हसने लगे और रात भर वो मुझसे चुदवाती रही।  

उस रात के बाद से मेरी सारी परेशानी खत्म हो गयी।  अब हर दूसरे तीसरे दिन वो अपने पेसो से होटल बुक करवाती है और मुझसे चुदवाती है।  अब तो १०० प्रतिशत रंडी बन गयी है।  अब मुझसे ज्यादा सेक्स के लिए वो तड़पती है।  और सब से बड़ा फायदा हुआ कि मेरी पेसो की प्रॉब्लम खत्म हो गयी।  मैं कोई न कोई बहाना कर के उस से पैसे लेता रहता हूँ और उसी के खर्चे पर उसकी चुत के मजे भी लेता हूँ।  अब घर पर भी में पहले से ज्यादा पैसे देता हूँ और सबको लगता है कि अब मैं बहुत अच्छे  से फैक्ट्री चला रहा हूँ ।  पर असलियत से अभी भी सब अनजान हैं।  

दोस्तों एक बार फिर से कह रहा हूँ , लड़की को पैसे ना दो , पर है अगर ले सकते हो तो लो जरूर।  लड़की को अपने लण्ड का दीवाना बनाओ और फिर सेवा भी करवाओ और मेवा भी खाओ।  कमेंट कर के जरूर बताना कैसी लगी मेरी कहानी।  

और भी इस तरह की कहानिया पढ़ने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Releated

बस में चाची की चुदाई!

दोस्तों आप लोगो ने वो कहावत तो सुनी होगी , कभी कभी कुआँ खुद प्यासे के पास आ जाता है।  पर कभी ये नहीं सुना होगा कि प्यासे की प्यास एक दूसरे प्यासे ने बुझाई।  जब किस्मत अच्छी हो न तो कुछ भी हो सकता है ।   मेरा नाम रमन है।  मैं हिमाचल प्रदेश का […]

परी के साथ जबरदस्त चुदाई !

कहानी का शीर्षक पढ़ के आप लोगों को पता लग गया होगा ये कहानी सब से अलग है । आप सभी लोगों ने बचपन में परियो की कहानियां सुनी होंगी। जैसा कि हम सब जानते हैं परियां बहुत सुंदर और अच्छी होती हैं । जिसे मिल जाएं उनकी लाइफ बन जाती है । मुझे भी […]

पड़ोस में आयी लड़की को गर्लफ्रेंड बनाकर प्यास भुजायी

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राजेश है और मेरे सभी दोस्तों को दिल से नमस्ते। दोस्तों मैं मुंबई रहने वाला हु और मैं एक कॉल सेण्टर में काम करता हु। आज मैं अपनी ज़िन्दगी की पहली अन्तर्वासना की कहानी लिखने जा रहा हु। यह कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड, रानी की है। यह बात आज से […]

दोस्त की प्यासी बीवी को खुश किया

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राज और मैं वापी का रहने वाला ह। मेरी पिछली कहानी पढ़कर आप सबको बहुत मज़ा आया होगा। उम्मीद है आज की कहानी में पढ़कर फिर आपको मज़ा आये। आपको पता है मुझे लड़कियों से ज़्यादा आंटी और भाभी पसंद आती है। आज की कहानी मेरे एक दोस्त और उसकी बीवी […]

Disclaimer - यह कहानी आपके सेक्स आनंद को बढ़ावा देने के प्रयास से लिखी गयी है, इसलिये इसे केवल एक मनोरंजन की ही तरह उपयोग में लेवे|यह कहानी आपकी आत्मा और मानसिकता पर बुरा प्रभाव डाल सकती है साथ ही आपके वैवाहिक जीवन में बुरा प्रभाव डाल सकती है|कहानी को पढ़ते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें की यह एक काल्पनिक कहानी है सच्चाई से इसका कोई सम्बन्ध नहीं है| Hindi Sex Story| Bangla Choti Golpo | Antarvasna